मिस्र के पिरामिडो के 12 चौकाने वाले रहस्य - Jankari Dunia

मिस्र के पिरामिडो के 12 चौकाने वाले रहस्य

12 Shocking Secrets of Egyptian Pyramids

12 Shocking Secrets of Egyptian Pyramids
मिस्र के पिरामिडो के 12 चौकाने वाले रहस्य



       पिरामिड का नाम सुनते ही हमारी आंखों में गीजा के महान पिरामिड की तस्वीर उतर कर सामने आती है मगर इनकी संख्या सैकड़ों में है और यह पूरी दुनिया में फैले हुए हैं सबसे पहले कहा गया कि यह मकबरे है मगर सब जानते हैं कि अगर यह मकबरे थे तो इनमे कब्र होना जरूरी था मगर आज तक किसी भी पिरामिड में कब्र नहीं मिल रहस्य तो तब शुरू हुआ जब यह एक एक कर कर पूरी दुनिया में मिलने लगे गीजा से कहीं छोटे पिरामिड सूडान में मिले जिनकी संख्या 255 है और ऐसे ही साउथ अमेरिका और चाइना में तो आज हम आपको पिरामिड के 12 रहस्य के बारे में बताने जा रहे हैं 


1 पिरामिड के आठ साइड बहुत से लोग यही जानते हैं कि पिरामिड के चार साइड है मगर यहां गीजा  के महान पिरामिड में आठ साइड है 1940 में ब्रिटिश पायलट ने पिरामिड के ऊपर से गुजरते हुए एक तस्वीर ली और पाया पिरामिड की 4 साइड नहीं है बल्कि आठ साइड है उसने देखा चारों साइड दो दो बराबर भागों में बटी हुई है इतना ही नहीं वह ऑटो साइड तब दिखाई देते हैं जब वसंत ऋतु पर शरद ऋतु का सूर्य अस्त होता है इसका अर्थ यह है कि मिस्रवासी उस समय सूर्य चक्र और आधुनिक गणित भी जानते थे तो उन्हें यह गणित सिखाई किसने?

2 दुनिया में एक जैसे पिरामिड होना उस समय संचार का कोई माध्यम नहीं था ना ही इंटरनेट जैसी कोई भी वस्तु मौजूद थी यहां तक कि एक देश से दूसरे देश जाना भी बहुत कठिन था फिर भी पूरी दुनिया के लोग एक ही समय में एक ही समय चक्कर में एक जैसे स्ट्रक्चर बना रहे थे आप देखेंगे तो पाएंगे इटली,गिजा,चाइना,साउथ अमेरिका,इंडोनेशिया के पिरामिड सब के सब एक जैसे हैं ऐसा लगता है मानो जैसे कोई इन्हें एक जैसे काम करने को बता रहा हो ऐसा कैसे हो सकता है पृथ्वी के एक ही समय काल में एक जैसे भवन का निर्माण किया गया जबकि अभी भी इस समय अलग-अलग देशों में अलग अलग भवन शैली पाई जाती है कई लोग इसे ग्लोबल कलेक्टिव नेस्ट कहते हैं जिसे सामूहिक चेतना भी कहा जाता है इसके अनुसार कहा जाता है कि मनुष्य एक जैसा सोचता है इसलिए एक जैसा काम करता है इस तरह की चेतना जानवरों में देखने को मिलती है क्या हम मनुष्य भी एक दूसरे से जुड़े हुए हैं जो एक जैसा सोचते हैं

12 Shocking Secrets of Egyptian Pyramids
मिस्र के पिरामिडो के 12 चौकाने वाले रहस्य
















3 क्या पिरामिड मकबरे थे दुनिया में इतने पिरामिड मौजूद है फिर भी किसी एक पिरामिड में भी कब्र नहीं मिली कुछ का कहना है लुटेरों और और क्यों लार्जेस्ट ने इन्हें लूट लिया मगर किसी का कब्र लूटना बड़ा अजीब सा लगता है कई बार पिरामिड में ताबूत भी नहीं मिले इससे तो यही लगता है कि पिरामिड किसी और कारण से बनाए गए थे 

4 वजन और दूरी पिरामिड की अंदर की दीवारें ग्रेनाइट ब्लॉक से बनी हुई है जिनकी संख्या 130 है जोकी गीजा के आसपास कहीं नहीं मिलते इन्हें 500 मील दूर से लाया गया था हर ब्लॉक 12 से 20 टन का है यह ब्लॉक पिरामिड के 1210 फिट को जकड़े हुए हैं जो अभी भी आधुनिक मशीनों से करना एक चुनौती बना हुआ है उस समय ईतनी दूरी से लाना और हर पत्थर को अपनी जगह में लगाना आश्चर्य सा लगता है 

5 कम जगह होना ग्रेट पिरामिड के अंदर तिन चेंबर है और सांस लेने के लिए कठोर पत्थरों को तोड़कर एक सुरंग बनाई गई है 300 फीट लंबी और 3 फीट चौड़ी एक सुरंग जो सबसे नीचे के चेंबर में जाती है कई आर्किटेक्ट मानते हैं कि सुरंग के पतले होने के कारण काम करना बहुत कठिन रहा होगा सुरंग को एक एंगल में बनाने के लिए स्पेशल टूल्स और ज्योमेट्री की जरूरत पड़ी होगी जोकि उस समय नामुमकिन सा लगता है

6 अलग-अलग प्रकार के पत्तों का उपयोग पिरामिड को बनाने के लिए 2 मिलियन पत्थरों के टुकड़ों का उपयोग किया गया जोकि अलग-अलग प्रकार के थे जिससे किसी भी परफेक्ट स्ट्रक्चर को बनाना बहुत कठिन हो जाता है इसके बाद भी ऊपर का चेम्बर परफेक्टली होरिज़ॉन्टल है जिसे बनाना अभी भी असंभव सा लगता है कई सालों के भूकंपों को झेलने के बाद भी हर पत्थर अपनी जगह पर स्थित है 

7 ध्रुव  की सटीक जानकारी होना पिरामिड को इस तरह बनाया गया कि वह 500 डिग्री के साथ उत्तर दिशा को अंकित करते हैं जो की पूरी तरह सटीक है जब हमको यह 17 वी सदी में पता चला कि 500 डिग्री उत्तरी सटीक रूप है पिरामिड के बनने के हजारों साल बाद 

8 समय सीमा आर्क्योलॉजिस्ट कहते है के पिरामिड को बनाने में सिर्फ 20 वर्ष लगे जिसे 2 मिलियन ब्लॉक से बनाया गया है जिसमें 12 घंटे की शिफ्ट होती थी वर्ष के 365 दिनों में जिसके अनुसार पत्थर को तराशने निकालने और उसे अपनी जगह फिट करने में सिर्फ 1:30 मिनट लगे होंगे अब यह बात तो बड़ी ही अजीब सी और असंभव सी लगती है कि किसी पत्थर को निकाला जाए तरस आ जाए और उसे अपनी जगह फिट कर दिया जाए वह भी सिर्फ 1:30 मिनट में यह एक बहुत बड़ा रहस्य है

12 Shocking Secrets of Egyptian Pyramids
मिस्र के पिरामिडो के 12 चौकाने वाले रहस्य















9 मामूली औजार आर्क्योलॉजिस्ट बताते हैं कि पिरामिड को बनाने के लिए लोहे की नहीं बल्कि तांबे की छेनी और पत्थर की हथौड़ी का उपयोग किया गया था यह सुनने में थोड़ा सा अजीब और अटपटा सा लगता है आज हम 21वीं सदी में है हमारे पास सुपर कंप्यूटर क्रेन और पावर टूल्स है उसके बाद भी इस तरह के भवन बनाना असंभव सा लगता है 

10 पिरामिडो का खास जगह पर होना और आर्क्योलॉजिस्ट  का मानना है कि इसे अनाज और बहुमूल्य वस्तुओं का संग्रह करने के लिए बनाया गया था मगर बाद में पता चला कि पिरामिड पृथ्वी के खास जगहों पर बने हुए हैं यह पृथ्वी के खास ज्योग्राफिकल सेंटर पर बने हुए हैं जहां पर पृथ्वी के सबसे लंबे अक्षांश और देशांतर आकर मिलते हैं जैसे कि मिस्र वासियों को पता था कि यहां पर किसी प्रकार की शक्ति का निकास होता है और वह इस शक्ति का उपयोग भी करते थे 

11 ओरियन नक्षत्र से सामान्यता गीजा के पिरामिड और क्योंकि होकेन के पिरामिड पृथ्वी पर ओरियन नक्षत्र को दर्शाते हैं और यह कोई इत्तेफाक नहीं हो सकता कि पृथ्वी पर अलग-अलग जगह पर स्थित दो अलग-अलग पिरामिड एक जैसे ओरियन नक्षत्र को दर्शाते हैं उनका मानना था कि उनके भगवान ओरियन नक्षत्र से आए हैं और भविष्य में आएंगे इसलिए उन्होंने ओरियन नक्षत्र को अंकित करते हुए अपने पिरामिड की डिजाइन बनाई 

12 गुप्त कमरों का होना पिरामिड के नीचे कई सुरंगे और कई गुप्त कमरे दबे हुए हैं जब वैज्ञानिकों ने सोनार टेक्नोलॉजी का उपयोग किया तो पाया कि कई ऐसे रास्ते और गुप्त कमरे हैं जिनकी अभी भी जानकारी हमें नहीं है और हमारी पहुंच से दूर है हम तो बस थोड़ा ही जानते हैं यह बड़ा अजीब सा लगता है कि इतने बड़े भवन में सिर्फ कुछ ही कमरे हैं एक प्रसिद्ध रूम भू वैज्ञानिक जिसका नाम टर्बो  था 2000 वर्ष पहले उसने  पिरामिड के अंदर प्रवेश करने का उत्तरी दरवाजा को खोज निकाला था तो उन रहस्यमई कमरों और गुप्त रास्तो में आखिर क्या है कोई नहीं जानता


पिरामिड की सीरीज में आज इतना ही अगले ब्लॉग में हम आपको बताएंगे पिरामिड कैसे बनाए हमारे इस ब्लॉग को पढ़ने  का धन्यवाद अगर यह आपको पसंद आया हो तो इसे शेयर करें और इस पर कमेंट करके हमें बताएं इसके साथ ही हमारे अन्य ब्लॉग को जरूर देखें हमारे ब्लॉग Jankari Dunia को सब्सक्राइब करना ना भूले
धन्यवाद



0 comments: